04 August, 2010

आयुक्त के आदेश की अवहेलना

कटनी. शिक्षा विभाग में व्याप्त अनियमितताओ का अंत कटनी जिले में होता नहीं दीखता यहाँ शासन से प्राप्त नियमो का पालन बिलकुल भी नहीं होता. अब तो शिक्षा विभाग में भ्रस्टाचार इस कदर हावी हो गया है की चाहे वह डी पी सी का पद हो या डी ई ओ अथवा बी आर सी का सबके लिए अच्छा खासा पैसा देकर कुर्सी की दौड़ के लिए विभाग के शिक्षक लगे है. जो भी पद पर बैठ जाता है वह मात्र रूपये के गोलमाल की जुगत में लगा रहता है इसी कारण शासन के नियमो की जानबूझकर अवहेलना की जाती है.

आयुक्त राज्य शिक्षा केंद्र भोपाल के पत्र क्रमांक/रशिके/मोनिट/2010 /4786   भोपाल, दिनक 28 /06 /10 में शाला के बाहर आवश्यक जानकारी लिखवाने विषयक एक पत्र भेजा गया जिसमे सभी शासकीय विद्यालयों में राज्य स्तर से अधिसूचित  एक टोल फ्री नंबर 155343  लिखा जाना है. इस टोल फ्री नंबर पर कोई भी व्यक्ति शासकीय शालाओ में पाठ्य पुस्तक, साईकिल, गणवेश से सम्बंधित शिकायत तथा शिक्षको की अनुपस्थिति के सम्बन्ध में शिकायत दर्ज करा सकता है. इसके अतिरिक्त जिले द्वारा भी अपने स्तर से शिक्षको की अनियमित उपस्थिति पर नजर  रखने की लिए टोल फ्री नंबर अधिसूचित किया  गया है.

यह देखने में आया है की टोल फ्री नंबर के बारे में जनसमुदाय में जानकारी का आभाव  है. यह टोल फ्री नंबर शाला के बाहर की दीवार पर आवश्यक रूप से पैंट से लिखवाने के निर्देश दिए गए है ताकि आम नागरिको को इसकी जानकारी हो सके.

उल्लेखनीय है की राज्य शिक्षा केंद्र के पत्र क्रमांक/3524 दिनांक 30 .05 .2009 से प्रत्येक शाला में सुविधा सूचना बोर्ड पैंट करने, जिसमे टोल फ्री नंबर भी सम्मिलित था के निर्देश  दिए गए थे. किन्तु कटनी जिले में यह कार्रवाई अभी  तक पूर्ण नहीं हुई है. यही नहीं सुविधा सूचना बोर्ड के अतिरिक्त शाला के बाहर दिवार  पर शाला  में पदस्थ शिक्षक का नाम एवं आई  डी नंबर, शाला का डाइस  कोड, शाला में बच्चो का कक्षावार  नामाकन तथा शाला में पाठ्य पुस्तक, गणवेश एवं साईकिल न मिलने पर अथवा शिक्षको के अनुपथित रहने पर टोल  फ्री नंबर 155343  एवं जिले के टोल फ्री नंबर  पर शिकायत दर्ज करने हेतु नंबर आवश्यक रूप से लिखे  जाने के निर्देश दिए गए है.

यह जानकारी ऐसे स्थान  पर लिखवाए जाने के निर्देश है जो सभी के लिए सहज अवलोकनीय हो सके. यह टोल फ्री नंबर 10 जुलाई के पूर्व समस्त शालाओ के बाहर लिक्वाए जाने के निर्देश दिए गए है  लेकिन राज्य शिक्षा केंद्र के आयुक्त के इस निर्देश का पालन जिले की शालाओ में नहीं लिखा गया है.

 कटनी जिले में छेह जनपद शिक्षा केंद्र - कटनी, ढीमरखेर, विजयराघवगढ़, बडवारा, बहोरिबंद, रीठी है लेकिन इनमें बैठे बी आर सी निर्भय होकर पैसा डकारने में लगे है. वे इस तरह के शाशन के निर्देशों को जनता को बतलाकर अपना भ्रष्टाचार उजागर नहीं कराना चाहते. और भ्रष्टाचार में डूबे बी आर सी, डी पी सी, डी ई ओ आम जनता को यह टोल फ्री नंबर देकर अपनी फजीहत नहीं कराना चाहते.