28 August, 2010

फर्जी किसानो के नाम पर खरीदी.....घोटाला

हरदुआ व कैल्वारा कला में व्यापारियो ने अनाज समर्थन मूल्य को लेकर किसानो के नाम से फर्जी चेक बनाए गए, लेकिन इस मामले में दोषियों पर कार्यवाही  नहीं की गई है. समर्थन मूल्य पर खरीदी के दौरान किसानो के नाम से दो समितियो में गेहू खरीदने और लाखो रूपये का भुगतान करने का मामला सामने आया है.

जिले में हरदुआ व कैल्वारा कला में बड़ी मात्र में फर्जी तरीके से व्यापारियो का अनाज समर्थन मूल्य पर लेकर किसानो के नाम से चेक बनाने की शिकायते की गई थी . जिस पर सहायक आयुक्त सहकारिता ने जाँच कराने के बाद 17 मई को प्रतिवेदन प्रस्तुत किया है की दोनों समितियो में जिन किसानो के नाम खरीदी करने का अभिलेखों में उल्लेख  है, उनमे से चार किसान ऐसे है, जिनके नाम पर दोनों  समितियो में लाखो के गेंहू  का उपार्जन किया गया है और उन्होंने कोई भी अनाज समितियो को बेचा  तक नहीं.

जाच में कहा गया है की प्रेम सिंह पिता भेदारी सिंह निवासी खादौला से हरदुआ केंद्र में चार सौ व कैल्वारा में 410 क्विंटल, अम्कुही निवासी कपिल तिवारी पिता भागीरथ से हरदुआ में चार सौ व कैल्वारा में 820 , हिम्मत सिंह पिता वीरान सिंह निवासी खादौला के नाम पर हरदुआ में 225 व कैल्वारा में 246 .65 क्विंटल गुलाब सिंह पिता हब्बी सिंह निवासी चनेहटी से हरदुआ में दो सौ व कैल्वारा खरीकी केंद्र में 190 क्विंटल गेंहू उपार्जन करने के बाद उन्हें चेक के माध्यम से भुगतान करने की बात कही है. जिसमे से कपिल तिवारी के बाहर होने पर उन्हें छोड़कर शेष तीनो किसानो ने बयान में कहा है की 12 मई तक किसी ने अपना गेंहू को नही बेचा है. न ही उन्हें चेक या कोई नकद राशी दी गई है. जबकि बैंक शाखा कटनी में क्रशको को उनके बचत खातो से भुगतान किया गया है.

कलेक्टर को लिखा पत्र
सहायक आयुक्त सहकारिता ने जून माह के दूसरे सप्ताह में पूरे मामले की जाँच करने के बाद अपराध पंजीबद्ध करने की अनुशंसा करते हुए महाप्रबंधक जबलपुर और कलेक्टर कटनी को पत्र लिखा है. जिस पर दो माह से ज्यादा बीत जाने के बाद भी दोषियों के खिलाफ कोई कार्यवाही नहीं  की गई है. वही विभाग की ओर से भी अभी तक दोषी कर्मचारियो अधिकारिओ को सरक्षण देते हुए कार्यवाही लंबित है.

जिन किसानो ने अपना अनाज समिति को बेचा ही नही, उनके नाम पर लाखो  रूपये के भुगतान किये गए है. जिनमे से प्रेम सिंह के बचत  खाता नंबर 16412 के माध्यम से 12 अप्रेल को दो लाख 52 हजार, 22 तारिख को दो लाख 40 हजार व 30 अप्रेल को चार लाख 80 हजार रूपये का भुगतान किया गया है. इसी तरह गुलाब सिंह को खाता क्रमांक 16480 के माध्यम से 8 अप्रेल को दो लखा 28 हजार, 28 अप्रेल को दो लाख 40 हजार जमा कर भुगतान प्राप्त किया गया . वही कृषक हिम्मत सिंह ने जाँच के दौरान बताया है की उसने कैल्वारा केंद्र में मात्र 96 क्विंटल गेंहू विक्रय किया है जबकि हरदुआ में उसने कोई गेंहू  नहीं बेचा  . इसके बाद भी उसके नाम पर खाता क्रमांक 16421 के माध्यम से 31 मार्च को एक लाख 80 हजार, 15 अप्रेल को 58 हजार दो सौ रूपये व 26 अप्रेल को 47 हजार 400  रूपये का भुगतान किया गया. जिसमे से एक लाख 80 हजार के भुगतान संदिग्द्ध है.