19 September, 2010

जगजगी समिति का गठन नहीं

अखिलेश उपाध्याय / कटनी
माँ बच्चे की प्रथम गुरु होती है यह सर्वविदित है की पढी लिखी माँ के बच्चे कभी अनपढ़ नहीं होते अतः शिक्षा की स्थिति में सुधार के लिए माता का शिक्षा व्यस्था में जुड़ाव होना जरूरी है. ग्राम में बच्चो की शिक्षा में महिलाओं की भागीदारी बढाने से बच्चो की शिक्षा के स्तर में सुधार आएगा. इसी उद्देश्य से प्रत्येक बसाहट में महिलाओं की एक समिति जगजगी समिति के रूप गठित  की जायेगी
क्या थी गठन की प्रक्रिया
प्रत्येक ग्राम में पढी लिखी एवं बहनों की समिति बनाई जायेगी. जिसे जगजगी  समिति कहा जाएगा.
जगजगी  समिति दस सदसीय होएगी जिसमे ग्राम की यथासंभव 12 वी अन्यथा 10 वी उत्तीर्ण पढ़ी लिखी एवं जागरूक महिलाओं को रखा जाएगा.
जगजगी  समिति  के सदस्यों का चयन निम्नानुसार गठित समिति के द्वारा किया जायेगा-
१  अध्यक्ष, विद्यालय प्रबंधन समिति
२  सरपंच
३  सर्वाधिक पढी लिखी महिला पंच
४  आंगनवाडी कार्यकर्त्ता
समिति की संयोजिका  शाला की महिला शिक्षिका अथवा जिन ग्रामो में महिला शिक्षिकाए नहीं है उन ग्रामो में आगंवादी कार्यकर्त्ता को बनाया जायेगे.
समिति के कार्य -
ग्राम में जनजागरण का कार्य करेगी
स्कूल चले हम अभियान का व्यापक प्रसार एवं सञ्चालन को देखरेख करना
ग्राम के समस्त बालक एवं बालिकाओं को शाला में दर्ज कराएगी तथा उनकी नियमित उपस्थिति पर भी नजर रखेगी
बच्चो को भौतिक एवं मानसिक रूप से प्रताड़ित न किया जाए
निःशक्त बालको की पहचान और उनका नामांकन तथा उनके सीखने की सुविधा तथा उनकी शिक्षण में भागीदारी और उनकी शिक्षा का अनुश्रवण (मानिटरिंग  ) करना
समिति के सदस्य शाला में बच्चो की शिक्षा की देखरेख हेतु आपस में कार्य आवंटन करेगी तथा शाला सञ्चालन की स्थिति पर निरंतर नजर रखेगी
समाज के साथ स्कूल को जोड़ने की प्रभावी भूमिका का निर्वहन करेगी.
मात्र  सञ्चालन में सहभागिता करेगी
बच्चो की माताओं  को एकत्रित कर वर्ष में दो बार सम्मलेन आयोजित करेगी
कार्यप्रडाली
समिति की बैठक कम से कम माह में एक बार होगी. बैठक के निर्णय एवं कार्यवाही का विवरण व्यस्थित रूप से दर्ज किया जाएगा. बैठक करवाने का दायित्व  संयोजिका का होगा
किसी महिला/पुरुष या किन्ही महिलाओं की सेवा स्कूल/बच्चो की शिक्षा के विकास के लिए उपयोगी  हो तो समिति  ऐसे व्यक्ति/व्यक्तिओ को बैठक में आमंत्रित कर सकेगी
समिति की बैठक एवं आवश्यक कार्यवाई हेतु आवश्यकतानुसार राशी शाला की आकस्मिक निधि से शाला प्रबंधन संतिति के अनुमोदन से व्यय की जा सकेगी
गठन का कार्यक्रम
जगजगी संतति का गठन 31 अगस्त 2010 के पूर्व संपन्न कराया जाएगा
सभी सदस्यों को परिचय पत्र प्रदान करने की कार्यवाही की जायेगी
प्रक्षिक्षण
जगजगी समिति का प्रक्षिक्षण 31 अगस्त 2010 के पूर्व संपन्न कराया जाएगा. छोटे जिलो में जिला स्तर पर एवं बड़े जिलो में विकासखंड स्तर पर प्रशिक्षण आयोजित किया जाएगा.