21 September, 2010

पेट्रोल चोरी की कहा करे शिकायत

अखिलेश उपाध्याय
कटनी उपभोक्ता की शिकायत दर्ज करने के लिए पेट्रोल पम्पो पर शिकायत पुस्तिका उपलब्द्ध करने का नियम तो बना दिया लेकिन उन पम्पो पर पुस्तिका उपलब्द्ध  रहती है या नहीं इसकी समय-समय पर जाँच नहीं की जाती. पेट्रोल डीजल कम डल रहा है पर इस चोरी की शिकायत आम आदमी करे तो करे कैसे जब पेट्रोल पम्पो से शिकायत पुस्तिका ही गायब है. कटनी शहर में अधिकांश पेट्रोल पम्पो का यह हाल है तो ग्रामीण क्षेत्रो के पम्पो का क्या कहना ? पम्पो पर पेट्रोल कम दिया जा रहा है और शिकायत पुस्तिका न होने से शहर के पेट्रोल पम्पो पर ग्राहकों की शिकायत पुस्तिका में दर्ज नहीं हो पाती.
नहीं रुक रही चोरी
प्रशासन ने पेट्रोल चोरी रोकने के लिए तमाम प्रयास किये यहाँ तक की इलेक्ट्रानिक मशीने और पारदर्शी पाइप लगवाने के निर्देश किये लेकिन पम्प मालिक इनपर अमल नही कर रहे है. कुछ ग्राहकों की माने तो पम्प पर मौजूद कर्मचारी द्वारा वाहन में पेट्रोल डालने के दौरान पेट्रोल के प्रवाह को बीच में रोक दिया जाता है जिससे मशीन तो चलती रहती है लेकिन पेट्रोल की मात्र कम हो जाती है. इसके अलावा अनेक स्थानों पर पुरानी मशीने ही लगी है. उपभोक्ता द्वारा पेट्रोल चोरी की शिकायत करने के लिए पुस्तिका मांगी जाती है तो पम्प संचालक द्वारा बताया जाता है की पुस्तिका की कोई जरूरत नाहे है, एक सादे कागज पर आपके नाम सहित शिकायत लिख दीजिये, शिकायत का निवारण हो जाएगा.
शिकायत पुस्तिका के अतिरिक्त अनेक पेट्रोल पम्प ऐसे भी है जहा पानी, छाया , वाहनों में हवा भरने की मशीन सहित कई सुवधाए नहीं है. वही ग्रामीण क्षेत्रो के पेट्रोल पम्प संचालक नियमो का पालन नही कर रहे है. पम्पो पर व्याप्त  असुविधाओ की जानकारी विभागीय अधिकारिओ को है बावजूद इसके इन पम्प संचालको पर प्रशासन की मेहरवानी अनेक आशंकाओं को जन्म देती है.
मिलावटखोरी भी है जारी
शहर व ग्रामीण क्षेत्रो के कई पेट्रोल पम्पो पर पेट्रोल में भारी मिलावट जारी है. पेट्रोल में हेक्जीन व अन्य रासायनिक पदार्थो की मिलावट के कारण पेट्रोल की मात्रा तो बढ़ जाती है लेकिन इससे वाहनों के इंजिन ख़राब हो जाते है. यानि पेट्रोल चोरी के साथ इसमें की जाने वाली मिलावट का खामियाजा भी  ग्राहक को ही भुगतना पड़ता है.
उपभोक्ता नहीं है जागरूक
पेट्रोल पम्प पर पेट्रोल डीजल की चोरी की जानकारी  तो उपभोक्ताओं को रहती है लेकिन इसकी शिकायत के लिए वह कभी जागरूकता नही दिखता जिसका लाभ पम्प संचालक को मिल जाता है. कई ग्राहकों को तो पम्पो पर शिकायत पुस्तिका की जानकारी तक नही है.