14 October, 2010

असमय मौत के शिकार हो रहे है.

अखिलेश उपाध्याय
लोगो द्वारा उपयोग में लाई जा रही पालीथीन जानवरों के लिए मौत का कारण बन रही है. इसके बाद भी लोग इसका उपयोग बंद नहीं कर रहे है जबकि केंद्र और राज्य शासन ने दस माईग्रेन  से पतली पालीथीन के उपयोग पर प्रतिबन्ध लगा रखा है.

शहरी और ग्रामीण क्षेत्रो में पालीथीन का उपयोग इतना ज्यादा बढ़ गया है की लोगो ने कपड़ो के थैले बाजार ले जाना बंद कर दिया है. लोग बिना थैले के ही सामान खरीदने के लिए आ जाते है और पालीथीन में सामान लेकर चलते बनते है. बाद में इस पालीथीन को सडको और घरो के आस-पास फेक दिया जाता है जो उड़कर नालियों को चोक कर देती है, जिससे नाली की गंदगी सडको पर फैलती है. वही पालीथीन में भरकर फेके गए सामान को खाने से जानवर इस पालीथीन को लील जाते है और वे असमय मौत के शिकार हो रहे है.
पर्यावरण और जानवरों को मौत से बचाने के लिए पालीथीन पर पूरी तरह प्रतिबन्ध लगाया जाना चाहिए. लोगो को भी पालीथीन का उपयोग बंद कर जागरूकता का परिचय देना चाहिए.