17 October, 2010

स्कूली बच्चो पर मलेरिया का खतरा

अखिलेश उपाध्याय
कटनी/ जिले के स्कूली बच्चो पर मलेरिया एवं डेंगू जैसी बीमरिओ का खतरा मडरा  रहा है. अस्सी फीसदी   स्कूलों में चौतरफा जबरदस्त गंदगी का आलम व्याप्त है. नियमित कक्षाओं में सफाई नहीं होती है तो स्कूलों के शौचालयों की दुर्गन्ध विद्यार्थियों को बीमारी का आमंत्रण दे रही  है. जिले के अधिकांश स्कूलों पर इन बीमारियों का खतरा है.

सुद्ध पानी की कोई व्यस्था नहीं
कई स्कूलों में बच्चो के लिए साफ़ पानी की कोई व्यस्था नहीं है. इन  स्कूलों में पानी की टंकी को सालो से साफ़ नहीं किया गया है, इन दिनों स्कूल के विद्यार्थी बहुत अधिक  संख्या में बीमार हो रहे है जिसको लेकर पालको ने आरोप लगाया है की स्कूल प्रबंधन की लापरवाही से सफाई व्यस्था ठप्प पड़ी है.

नहीं दी जा रही कोई सलाह
जिले के विभिन्न स्कूलों में डेंगू  और मलेरिया जैसी बीमारियों से बचाव के लिए विद्यार्थियों  को जागरूक  करने के लिए कोई पहल नहीं की जा रही है.जबकि कार्यशालाओ के मध्यम से छात्रो को जागरूक किया जाना था. इसके लिए शिलसिलेवार अभियान भी चलाया जाना चाहिए था. लेकिन जिम्मेदार लोगो ने कभी भी इस ओर ध्यान नहीं दिया इस कारण छात्रो में जागरूकता नहीं आ पाई. अँधेरे कमरों में लगने वाले इन सरकारी स्कूलों में साफ़ सफाई न होने से मच्छर तो दिन में भी इन कमरों में मौजूद होते है.

मध्यान्ह भोजन में सफाई का ध्यान नहीं
स्कूलों में परोसा जाने वाला मध्यान भोजन भी बीमारी का संकेत दे रहा है. इन स्कूलों में खुले में बच्चो को भोजन कराया जा रहा है जो असुरक्षित है.