22 October, 2010

स्कूली शिक्षा के लिए अब बरसेगा धन


अखिलेश उपाध्याय / कटनी
पहली से आठवी तक के बच्चो को स्कूल की देहलीज तक लाने  के लिए चलाये जा रहे सर्वशिक्षा अभियान की तर्ज पर अब नवी और दसवी कक्षा में विद्यार्थियों को स्कूल तक लाने  और उन्हें शैक्षणिक सुविधाए उपलब्द्ध कराने के लिए राष्ट्रीय माध्यमिक शिक्षा अभियान शुरू किया जा रहा है.
इस अभियान को अमलीजामा पहनाने के लिए जिला शिक्षा विभाग पिछले एक वर्ष से तैयारियों में जुटा है, इस अभियान में भी शैक्षणिक संसाधनों के लिए सर्व शिक्षा अभियान की तरह करोडो रूपये आने  की सम्भावना है.

क्या है उद्देश्य
राष्ट्रीय माध्यमिक शिक्षा अभियान में इसका दायरा बढाकर नवी और दसवी कक्षा को भी शामिल किया गया है. इसका प्रमुख  उद्देश्य कक्षा दस  तक के बच्चो को शतप्रतिशत शिक्षा मुहैया कराना है, जिसमे लोकव्यापीकरण के साथ ही शैक्षणिक  गुद्वात्ता को भे बेहतर बनाना है.

क्या है अभियान
एक सर्वे के मुताबिक नवी और दसवी कक्षा तक आते-आते तीस फीसदी से अधिक बच्चे पढ़ाई छोड़  देते है. कटनी जिला की स्थिति भी इससे अलग नहीं है. कटनी जिले के शिक्षा का ग्रोथ इन्वोल्व्मेंट रेसो सत्तर फीसदी से बजी  कम है. राष्ट्रीय माध्यमिक शिक्षा अभियान के तहत इसे 2012 तक 75 प्रतिशत तक लाने  का लक्ष्य रखा गया है तथा 2017 तक इसे शतप्रतिशत करने की योजना है

बच्चो का सर्वे होगा
सर्व शिक्षा अभियान के तहत चलाये जाने वाले स्कूल चले हम कार्यक्रम की भाती कार्यक्रम चलाकर पढाई छोड़ने वाले बच्चो को चिन्हित किया जाएगा तथा ऐसे बच्चो की जानकारी एकत्रित कर उन्हें स्कूल में प्रवेश दिलाया जाएगा जिससे उनकी शिक्षा  में कोई रूकावट नहीं आ सके.