20 November, 2010

पुलिस दल जमकर पिटा

कटनी / बिलहरी चौकी अंतर्गत करहिया गाँव में जुआ फड में दबिश देने पहुचे चौकी प्रभारी सज्जन सिंह सहित पुलिस दल पर ग्रामीणों ने हमला कर दिया. हमले में चौकी प्रभारी सहित आधा दर्जन पुलिस कर्मी जख्मी हो गए. चौकी प्रभारी को सर में चोट व एक हाथ  की कलाई में फ्रेक्चर हुआ और उन्हें उपचार के लिए एम् जी एम् हास्पिटल में दाखिल किया गया है.

हमले के बाद पुलिस ने रात्रि में हमलावरों को पकड़ने तलाशी अभियान भी चलाया और पुरुषो के न मिलने पर दो महिलाओं के साथ जमकर मारपीट की.  कुठला टी आई के मुताबिक दो दर्जन से अधिक लोगो पर मामला दर्ज किया गया लेकिन किसी हमलावर की गिरफ़्तारी नहीं हो पाई.

कुठला थाना प्रभारी भारत सिंह राजपूत ने बताया की बिलहरी चौकी के अंतर्गत ग्राम करहिया में  दिवाली से पूर्व ही जुआ फड  चलाये जाने की सूचना मिल रही थी तथा पुलिस  आये दिन मिलने वाली इस सूचना के बाद गाँव में दबिश भी देती थी लेकिन जुआरी हमेशा पुलिस को चकमा देकर बच निकलते थे. टी आई ने बताया कलरात भी मुखबिरों ने बिलहरी चौकी प्रभारी सज्जन सिंह को करहिया में जुआ चल रहे होने की सूजना दी. जिसके बाद बिलहरी चौकी प्रभारी सजन सिंह व आरक्षक जगदीश  पांडे कुछ और पुलिसकर्मियों को साथ लेकर जुआ फड  में दबिश देने करहिया पहुच गए. जहा जुआ फड की घेराबंदी करते हुए इसकी भनक  जुआरियो को लग गई और उन्होंने पुलिस दल पर पथराव करते हुए हमला कर दिया इस हमले में बिलहरी चौकी  प्रभारी सजन सिंह व आरक्षक जगदीश पण्डे सहित सभी पुलिसकर्मियों को चोटे  आई लेकिन बिलहारी चौकी प्रभारी सजन सिंह व आरक्षक जगदीश पण्डे को गंभीर चोटे आई.
बिलहरी चौकी प्रभारी व अन्य पुलिस कर्मियों पर हुए हमले को लेकर ग्रामीणों का कहना है की चौकी प्रभारी की सह पर करहिया ही नहीं आसपास के कुछ अन्य गांवो में भी सट्टा व जुआ फड का अबैध कारोबार अरसे से खूब फल-फूल रहा था. कटनी से बड़े जुआरी फड में पहुचते है. चौकी प्रभारी की सटोरियों, अवैध शराब के कारोबारियो से अच्छे सम्बन्ध है. करहिया में पुलिस निश्चित तिथि पर सट्टे की रकम बसूलने पहुचती है. हमले के पीछे भी रकम को लेकर हुआ विवाद एक कारण बताया जा रहा है.

चौकी प्रभारी सज्जन सिंह वर्मा दूसरी बार बिलहरी में पदस्थ हुए है और उनकी कार्यशैली काफी चर्चित है. क्षेत्रीय जनता के मुताबिक चौकी प्रभारी वर्मा पुलिस के काम छोड़कर कमाई  में लगे रहते है. यहाँ तक की मनरेगा के तहत चल रहे काम एवं अन्य निर्माण कार्य में शासकीय नियम कायदों को बताकर बसूली कर रहे है. इस क्षेत्र के सभी सरपंच और सचिव भी वर्मा से त्रस्त है.

बिलहरी चौकी प्रभारी सहित पुलिस दल पर हमले की जानकारी लगते ही जहा कुठला थाना प्रभारी भारत सिंह राजपूत पुलिस बल के साथ करहिया गाँव पहुच गए बही अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अतुल सिंह व नगर पुलिस अधीक्षक राजेश तिवारी बिलहरी चौकी पहुच कर पूरे घटना क्रम से अवगत हुए.
चौकी प्रभारी सहित पुलिस दल पर हुए हमले को लेकर पुलिस ने गाँव करहिया के दो दर्जन से अधिक ग्रामीणों पर शासकीय कार्य में बाधा  डालने व बलवा की धारा 186 , 332 , 353 , 147 , 149 के  तहत मामला दर्ज कर लिया है. आरोपियों में से अभी किसी भी गिरफ़्तारी नहीं हो सकी है.

ग्रामीण गाँव छोड़ रहे
अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अतुल सिंह, सीएसपी राजेश तिवारी, टी आई बी एस राजपूत ने बिलहरी पहुचकर घटना की जानकारी हासिल  की. रात्रि में हुए हमले के बाद से ही कुछ अन्य पुलिस बल उपलब्द्ध कराकर आरोपियों की गिरफ़्तारी के लिए  पुलिस टीम करहिया पहुची. हमले के बाद दहशत में ग्रामीणों ने गाँव छोड़ दिया है. बताया जाता है की पुलिस ने ग्रामीणों को पकड़ने घर-घर तलाशी अभियान चलाया. घरो में महिलाए व बच्चे मौजूद है. पुलिस ने महिलाओं पर गुस्सा उतारा.
बिलहरी चौकी प्रभारी सज्जन सिंह वर्मा पर यह दूसरी बार हमला हुआ है. इससे पहले क्षेत्र के एक अपराधी ने उनके साथ मारपीट की थी.