21 November, 2010

पुलिस के खौफ से पुरुषो ने छोड़ा गाँव

कटनी / बिलहरी
बिलहरी चौकी क्षेत्र के करहिया गाँव की सड़के पुलिस के खौफ से सूनी पड़ी है. गाँव के सभी पुरुष घर छोड़कर अन्यत्र चले गए है और घरो में केवल महिलाये व बच्चे ही शेष बचे है. घरो में बचे परिजनों से पुलिस पता पूछने सख्ती बरत रही है. कुछ महिलाओं ने पुलिस द्वारा रात्रि में सोते से उठाकर मारपीट किये जाने के आरोप लगाये है. पुलिस पर हमला करने वालो की तलाश आसपास के गाँव में भी हो रही है. पुलिस ने गिरफ़्तारी के लिए निजी मुखबिर भी लगा रखे है.
दूसरे दिन भी किसी की  गिरफ़्तारी देर शाम तक नहीं हो पाई थी. विदित हो की शुक्रवार की रात करहिया गाँव में जुआ फड पर दबिश के दौरान बिलहरी चौकी प्रभारी सज्जन सिंह व चार अन्य पुलिस कर्मियों पर ग्रामीणों ने हमला बोल दिया था. हमले में चौकी प्रभारी व एक अन्य पुलिस कर्मी जख्मी हुए. पुलिस ने दो दर्जन से अधिक लोगो पर बलवा, शासकीय कार्य में बाधा पहुचाने की विभिन्न धाराओं के तहत प्रकरण दर्ज किया है. हमले के बाद पुलिस ने आरोपियों को पकड़ने दो दिन से सर्चिंग अभियान चला रखा है लेकिन कोई सफलता नहीं मिल रही है.

करहिया गाँव में कुछ महिलाओं ने बताया की करहिया में जुआ फड कई वर्षों से संचालित हो रहा है. जुआ फड में ज्यादातर शहर के जुआरी शामिल होते है. हमले के दौरान भी शहर के बड़े जुआरी मौजूद रहे. इन महिलाओं की माने  तो हमले के समय ग्रामीणों ने पुलिस को सहयोग दिया और उन्हें बचाया भी. जख्मी पुलस कर्मियों को ग्रामीणों ने ही वाहन व्यस्था कर भिजवाया.

पुलिस  के भय से पुरुष तो गाँव छोड़कर चले गए है और घरो पर मौजूद महिलाये भी घरो से बाहर नहीं निकल रही. दरवाजा खटखटाने पर महिलाये और बच्चे भयभीत होकर दीवारों  से चिपट जाते है. गाँव की सडको पर इस कदर सन्नाटा पसरा है जैसे कर्फू का माहौल छाया हो. बच्चे भी घरो से बाहर नहीं निकल रहे. ऐसा पता चला है की हमले की रात से ही गाँव के पुरुष घर छोड़ चुके है .
इसके बाद रात्रि में करीब दो बजे पुलिसकर्मियों के साथ मारपीट की गई. महिलाओं को सोते से उठाकर पूछताछ की गई.
हमलावरों की गिरफ़्तारी के लिए पुलिस ने करहिया में डेरा दाल  रखा है. कुठला टी आई  बी एस राजपूत दो दर्जन से अधिक पुलिस कर्मियों के साथ करहिया में मौजूद है. बंदूकधारी पुलिसकर्मी गाँव में गश्त कर रहे है. सब कुछ ग्रामीणों में यह दहशत पैदा करने किया जा रहा है की दोबारा पुलिस पर ग्रामीण हमला करने की सोच ने सके.
वही पुलिस के अनुसार जुआदियो  की धरपकड़ करने गए पुलिस दल पर हमला करने वालो के खिलाफ मामला दर्ज कर तलाश की जा रही है. हमले में जख्मी हुए चौकी प्रभारी सज्जन सिंह का एमजीएम अस्पताल में उपचार जारी है.
पुलिस पर हुए हमले को लेकर ग्रामीणों में अलग-अलग चर्चाओं का दौर जारी है. पुलिस के अनुसार करहिया ग्राम में जुआ फड बैठे होने की सूचना मुखबिर से मिली थी और पुलिस दल ने जुआ फड में दबिश दी तभी जुआरियो ने हमला कर दिया. वही ग्रामीणों के अनुसार गाँव में जुआ फड एक दिन नहीं बल्कि साल भर चलता है.