21 November, 2010

इन्हें कौन देता है लाईसेंस...?

कटनी / शहर में सडको पर अधिक वाहन होने के कारण आये दिन हादसे हो रहे है.  इन सडको पर जहा चाहिए वहा गति अवरोधक भी नहीं बनाये गए है  जिससे वाहन तेज गति से चल रहे है.

इन दिनों सडको पर वाहनों की मात्रा तो बढ़ी है लेकिन सडको की चौडाई नहीं बधाई गई है. भारी वाहन सहित सभी वाहन तेज गति से शहर के बीचो बीच से तेज गति से गुजरते है. पैदल चलने वाले लोगो को खतरा हमेशा बना रहता है. पुलिस प्रशासन द्वारा तेज रफ़्तार से निकलने वाले वाहनों पर कार्रवाई नहीं की जा रही है.

जिले में अठारह साल से कम उम्र के बच्चे मोटरसाइकल, ट्रेक्टर, कार चला रहे है लेकिन पुलिस द्वारा इन पर कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है. नवजवानों द्वारा तेज गति से लहराकर वाहन चलाने से भी आये दिन हादसे होते रहे है.

जिले में तहसील  स्तर पर बसे मुक्यलायो में भी सडको पर अतिक्रमण के चलते यातायात मुश्किल और संकट भरा हो गया है. रीठी तहसील  से होकर गुजरने वाले  कटनी दमोह मार्ग को यहाँ बसे व्यापारियों ने अतिक्रमण के कारण बहुत ही संकीर्ण बना दिया है. यहाँ से गुजरने वाले भारी वाहनों को निकलने पर जाम जैसी स्थिति दिन कई-कई बार निर्मित हो जाती है. पिछले बीस वर्षों में अतिक्रमण के नाम पर केवल नाप जोख के बाद न जाने क्यों अतिक्रमण विरोधी मुहिम ठंडी पड़ जाती है...?
शायद यहाँ के व्यापारी अधिकारियो को काम न करने का पैसा पंहुचा देते है......