26 November, 2010

घोड़े की सवारी व शहनाई की गूँज हुई महँगी

देवउठनी ग्यारस के कुछ दिनों के बाद ही अब शादी विवाह धूम धाम से होने लगे है लेकिन इस साल शादी में धूम धड़का पिछले वर्ष की अपेक्षा इस बार डेढ़ गुना महगा हो गया है. चाहे शादी में डी जे या बंदबाजो   की बात या खाने-पीने  की या फिर मैरिज धर्मशाला के किराये की.

इस बार महगाई का चारो तरफ बोलबाला है. वर और वधु पक्ष दोनों की जेब पर पिछले दिनों बढ़ी महगाई के कारण अतिरिक्त बोझ बाद  गया है. पिछले कुछ माह से लगातार बढ़  रही महगाई की मार अब उन लोगो को सहन करनी पड़ रही है जिनके बेटा -बेटी की शादी होने जा रही है. वो लोग भी महगाई की मार से पीड़ित दिख रहे है क्योकि शादी विवाह के अवसर पर अपने यार दोस्तों रिश्तेदारों के लिए भोजन का निमंत्रण देते है लेकिन पिछले वर्ष की अपेक्षा  इस बार दावत में उपयोग होने वाली सामग्री के भाव आसमान छू रहे है. शादी समारोह में खाना बनाने वाले हलवाई का कहना है की शक्कर, आटा, दाल, सब्जी आदि महगे दामो पर खरीदना पड़ेगा इसलिए पहले से तय रेट का कोई मतलब नहीं रह गया है.

शादी के कार्ड्स की कीमत इस साल पंद्रह प्रतिशत तक बढ़ी  है. इस बार बाजार में सामान्य श्रेणी में तीन से लेकर साठ रूपये तक के कार्ड उपलब्द्ध है. ग्राहकों की मांग पर भी महगे कार्डो की संख्या में इजाफा हुआ है लेकिन कार्डो की महगाई का असर फ़िलहाल कतई दिखाई नहीं दे रहा है. शादी विवाह के निमंत्रण को देने के लिए मजबूरी में लोगो को कार्डो को छपवाना पड़ रहा है. बगैर कार्ड के  किसी को भी मुह जुबानी दावत देना कुछ लोग अच्छा नहीं समझते है. वही प्रिंटिंग प्रेस के संचालक  संजय तिवारी ने बताया की बढती महगाई से कार्डो में कोई ज्यादा असर नहीं पड़ रहा है बल्कि कुछ लोग हलकी क्वालिटी के कार्ड छपवा रहे है.
लडको की शादी हो और घोड़े और बैंडबाजे न हो तो कुछ अजीब सा लगता है. पिछले वर्ष की तुलना में इस वर्ष बैंडबाजो के साथ-साथ घोड़े वालो ने भी बढती महगाई को देखकर अपने भी दाम बढ़ा दिए है जो पहले पाच सौ रूपये से लेकर एक हजार रूपये में होते  थे वे एक से तीन हजार रूपये मात्र दो घंटे   के लिए मनमाने दाम लिए  जा रहे है कीमतों का असर डी जे बैंडो पर भी पड़ा है जहा बैंडबाजे पांच हजार में हा जाया करते  थे आज वह पंद्रह से बीस हजार रूपये में भी नहीं हो रहे है.

दिन प्रतिदिन बढती महगाई ने विवाह समारोह का बजट बिगाड़ दिया है. बैंडबाजो से लेकर घोड़े की सवारी, रोड लाईट, दीजे तक के भाव दिनोदिन बढ़ते जा रहे है. इसके कारण शादी में होने वाले  खर्च  पिछले साल के मुकाबले बीस फीसदी तक बढ़ चुका है. महगाई ने शादी की तैयारियों में जुटे लोगो को बजट बिगड़ दिया है.