08 December, 2010

फर्जी मूल्यांकन कर निकला पैसा

सामने आ रही अनियमितता
म न रे गा के कार्यो में व्याप्त भ्रस्टाचार एवं लापरवाह अधिकारी कर्मचारी पर अंकुश लगाने की दिशा में जनपद पंचायत अध्यक्ष रीठी श्रीमती प्रीति सिंह ठाकुर इस समय विगत वर्षों में विकास कार्यो का लेखा जोखा लेने पंचायत के भ्रमण पर है. इसी सिलसिले में भ्रमण के दौरान अध्यक्ष को अनेको अनियमितताए देखने को मिल रही है.

इस समय रीठी जनपद पंचायत अध्यक्ष के कार्य कलाप से क्षेत्रीय जनता में विश्वास जाग्रत हुआ है एवं अब ग्रामीण उन्हें अपनी समस्याओं  एवं विकास कार्यो में हुए भ्रस्टाचार की शिकायत करने लगे  है जिनपर अध्यक्ष द्वारा तत्काल मौके पर पहुच कर जाँच पड़ताल की जा रही है.

ऐसा ही एक मामला ग्राम पंचायत कैना में म न रे गा के अंतर्गत  कराये गए काम का प्रकाश में आया. ग्रामीणों ने एक शिकायत में बताया की इस पंचायत में बड़ा तालाब एवं बंधान विस्तारीकरण  का कार्य डहरिया नाला से स्टाप डेम का निर्माण हेतु म न रे गा के तहत स्वीकृत हुए थे लेकिन सरपंच, सचिव द्वारा कार्य  नहीं कराया गया एवं उपयंत्री बी बी गुप्ता  एवं सहायक यंत्री उद्दे  द्वारा फर्जी मूल्यांकन कर आहरण कर लिया गया है.

इस सम्बन्ध में जब जनपद अध्यक्ष द्वारा शिकायत की जाँच की गई तो शिकायत सही पाई गई और सरपंच एवं सचिव से डेढ़-डेढ़ लाख रूपये की बसूली कर राशी जमा कराई गई है

लेकिन मजेदार बात यह की म न रे गा का कार्य देख  रहे उपयंत्री श्री बी बी गुप्ता द्वारा मूल्यांकन करके इन दोनों कार्यो का पूर्णता प्रमाण पत्र जारी कर दिया गया है.

अध्यक्ष ने उपयंत्री के इस फर्जी मूल्यांकन की  लिखित शिकायत संभागायुक्त श्री प्रभात पराशर, कलेक्टर, एस दी एम्  को की है अपने पत्र में अध्यक्ष ने लिखा  है की सरपंच सचिव से राशी बसूलने का मतलब है की उपयंत्री  एवं सहायक यंत्री द्वारा फर्जी मूल्यांकन कर दोनों कार्यो की लगभग साढ़े आठ लाख की राशी का आहरण कर गबन किया गया है.

इसके पूर्व भी कटनी कलेक्टर एम् एशेल्वेंद्र को जाँच प्रतिवेदन की प्रति लगाकर इस सम्बन्ध में एक महीना पहले भी शिकायत की थी लेकिन उनके द्वारा अभी तक कोई कार्रवाई नहीं की गई इसलिए पुनः इन प्रमाणित तथ्यों के आधार पर अध्यक्ष ने सम्बंधित उपयंत्री  एवं सहायक यंत्री के विरुद्ध तत्काल कार्रवाई करने के लिए लिखा है.