05 December, 2010

अव्यवस्थाओ का केंद्र बने डाकघर

डाकघरों से मिलने वाली वृद्धावस्था पेंसन, रोजगार गारंटी का भुगतान, निराश्रित पेंसन आदि के वितरण में इस समय पोस्ट आफिस में बैठे ग्रामीण स्तर के कर्मचारी जमकर भ्रष्टाचार कर रहे है. छोटे बड़े हर भुगतान पर दस रूपये से लेकर पचास रूपये तक लेकर हितग्राहियों को लूटा जा रहा है.

कटनी जिले की रीठी तहसील के बडगांव पोस्ट आफिस में तो वर्षों से जमे पोस्ट आफिस के कर्मचारी ने अराजकता फैला रखी है. यहाँ पदस्थ लखन सोनी की मनमानी के चलते भुगतान के लिए आया पैसा समय पर नहीं दिया जाता इसी के चलते गर्मियों में मदनलाल कुशवाहा की भूख से मौत हो गई थी.

इस निर्मम मौत के बाद भी कटनी कलेक्टर के कान पर जू नहीं रेंगी और यह फिर से लूट खसोट बदस्तूर जारी है. प्रशासन की निष्क्रियता के चलते अभी भी लखन सोनी लोगो का रोजगार गारंटी का भुगतान और हर तरह की पेंसन के भुगतान में लेट लतीफी कर रहा है. छेह-छेह महीने के भुगतान का पेंसन धारियों को हिसाब ही नहीं मिलता और उन्हें खाते में राशी न आने की बात हमेशा कही जाती है.

एक ऐसी ही शिकायत में बडगांव पोस्ट आफिस में निराश्रित पेंसन पाने वाली  हीराबाई पति सरजू चमार ने बताया की उसे एक साल से किसी भी प्रकार की राशी नहीं दी गई है पोस्ट आफिस जाने पर लखन सोनी डाट डपटकर भगा देता है.
.
ऐसा नहीं है की इस प्रकार की शिकायत यह अकेली महिला है लखन सोनी के नाम पर तो हर वह व्यक्ति परेशान है जिसका पाला इस पोस्ताफिस से भुगतान लेने में पड़ा हो लखन सोनी की शिकायत करने वाले इस क्षेत्र के हर गाँव में मिल जायेगे उससे तो  लगभग हर एक गाँव के हितग्राही परेशान है.

लेकिन इन परेशान हितग्राहियों की सुनवाई करने वाला कोई नहीं है. कटनी कलेक्टर तो इस तरह की विसंगतियों पर जैसे ध्यान ही नहीं देते. आखिर गरीबो की कौन सुनेगा......