07 September, 2011

नोट कांड में कुलस्ते-भगौरा के साथ खड़ी हुई भाजपा



     नोट के बदले वोट मामले को संसद में उजागर करने वाले अपने दो पूर्व सांसदों को जेल भेजे जाने को लेकर भाजपा ने आक्रामक रुख अपना लिया है। लोकसभा में विपक्ष की नेता सुषमा स्वराज ने तिहाड़ जेल जाकर दोनों पूर्व सांसदों फग्गन सिंह कुलस्ते व महावीर भगौरा से मुलाकात कर साफ किया कि पार्टी पूरी तरह उनके साथ है। स्वराज ने सांसदों को घूस देने वालों व इसे उजागर करने वालों पर एक ही मापदंड अपनाने को दुर्भाग्यपूर्ण व अलोकतांत्रिक करार देते हुए कहा कि भाजपा इस लड़ाई को पूरी ताकत से लड़ेगी।
 
  भाजपा ने इस मामले को पूरी ताकत के साथ संसद में भी उठाने का फैसला किया था। उसके शीर्ष नेता लालकृष्ण आडवाणी ने लोकसभा में खुद मोर्चा संभालते हुए प्रश्नकाल स्थगित करने को नोटिस भी दिया था। आडवाणी कभी-कभार किसी बहुत बड़ी घटना पर ही इस तरह के नोटिस देते हैं। मगर चूंकि दिल्ली हाईकोर्ट में बम विस्फोट की घटना से सारा माहौल ही बदल गया, इसलिए आडवाणी ने इस मामले पर जोर नहीं दिया। हालांकि विपक्ष की नेता सुषमा स्वराज ने इस मामले में न्यायिक हिरासत में तिहाड़ जेल में बंद अपने दोनों पूर्व सांसदों फग्गन सिंह कुलस्ते व महावीर भगौरा से मुलाकात कर साफ किया कि पार्टी पूरी ताकत के साथ उनके साथ खड़ी है। 

    सुषमा के साथ लोकसभा में पार्टी के उप नेता गोपीनाथ मुंडे व सांसद अनंत कुमार भी थे। सुषमा ने कहा है कि यह बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है कि सांसदों की खरीद फरोख्त करने वालों व इस मामले को उजागर करने वालों को एक ही मापदंड पर तौला जा रहा है