07 September, 2011

संसद में गृहमंत्री ने कबूली चूक की बात

केंद्रीय गृहमंत्री पी चिदंबरम ने कहा है कि दिल्ली आतंकवादी गुटों के निशाने पर है। संसद के दोनों सदनों में बुधवार को गृहमंत्री ने स्वीकार किया कि दिल्ली पुलिस की क्षमता बढ़ाने तथा हाई अलर्ट जारी होने के बावजूद यह दुखद घटना हुई। दिल्ली हाईकोर्ट के गेट पर हुए बम विस्फोट की निंदा करते हुए चिदंबरम ने कहा कि सरकार दोषियों का पता लगाने तथा उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने के लिए कृत संकल्प है।

पुलिस को सुदृढ़ बनाने के प्रयास किए जा रहे
चिदंबरम ने बुधवार को संसद के दोनों सदनों में इस आतंकी घटना की जानकारी दी। उन्होंने कहा कि संसद सत्र के दौरान तथा कुछ अन्य मौकों पर दिल्ली में हाई अलर्ट जारी किया जाता है। इस साल जुलाई के दौरान दिल्ली पुलिस को कुछ संगठनों से मिली धमकियों से संबंधित खुफिया सूचना दी गई थी। चिदंबरम ने लोकसभा में कहा कि इस विस्फोट के पीछे किस आतंकवादी संगठन का हाथ है इस बारे में फिलहाल कुछ भी नहीं कहा जा सकता। लेकिन सरकार इस जघन्य अपराध में शामिल लोगों को पकड़कर उन्हें सजा दिलाने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ेगी। गृहमंत्री ने कहा कि पिछले कई वर्षों से दिल्ली पुलिस को सुदृढ़ बनाने के प्रयास किए जा रहे है।

पदाधिकारियों के साथ विचारविमर्श किया
उन्होंने सदन और देशवासियों से अपील करते हुए कहा कि कि हमें दृढ़ निश्चयी और संगठित रहने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि हम आतंकियों से कभी नहीं डरेंगे। उन्होंने घटना में मारे गए लोगों के परिवारों के प्रति संवेदना तथा घायलों के प्रति सहानुभूति जताई। चिदंबरम ने सदन को भरोसा दिया कि घायलों का बेहतर इलाज कराया जाएगा। चिदंबरम ने राज्यसभा में कहा कि वह अपराह्न एक बजे दिल्ली उच्च न्यायालय गए थे तथा उन्होंने घटनास्थल का निरीक्षण किया। उन्होंने दिल्ली उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश और बार एसोसिएशन के पदाधिकारियों के साथ विचारविमर्श किया।