24 February, 2012

मछली पालन ठेका विवाद पर युवक की नृशंस हत्या

कटनी, बड़वारा थानांतर्गत ग्राम मुहास में आज सुबह तीन-चार लोगों ने अपने पड़ौसी युवक की घातक हथियारों से नृशंस हत्या कर दी। घटना के बाद गांव में तनाव फैला, कुछ लोगों ने आरोपी के घर में में तोड़ फोड़ की तथा आग भी लगा दी। समाचार लिखे जाने तक मौके पर भारी पुलिस बल पहुंच चुका था। सूत्रों के अनुसार मृतक के पिता ने इस विवाद पर पुलिस को पहले ही शिकायत दी थी, लेकिन पुलिस ने उसे गंभीरता से नहीं लिया। लिहाजा युवक की हत्या के बाद सवाल उठना लाजिमी है कि अगर पुलिस चाहती तो एक युवक की जान न जाती। सूत्रों के अनुसार मुहास में दो बर्मन परिवारों आरोपी गुड्ड उर्फ चितकबरा, रामअवतार, आशीष तथा मृतक विपिन बर्मन के बीच तालाब में मछली पालन को लेकर काफी पुराना विवाद चल रहा था। विवाद की परिणति कुछ दिन पहले दोनों परिवारों के बीच मारपीट भी हुई थी जिसमें मृतक विपिन के पिता द्वारका बर्मन को चोटें आंई थीं और वह अस्पताल में भी भर्ती था। मृतक के परिजनों के अनुसार इस विवाद के बाद से ही गुड्डू, रामअवतार तथा कुछ अन्य धमकी दे रहे थे कि वह विपिन को मार देंगे। इस बात की शिकायत विपिन के पिता ने कई दफे बड़वारा पुलिस एवं कुछ समय पूर्व पुलिस अधीक्षक को भी दी थी। जांच के आदेश के बावजूद बड़वारा पुलिस ने इस विवाद को गंभीरता से नहीं लिया। आज सुबह सुबह दोनों परिवारों के लोग एक बार फिर से टकरा गए। मृतक विपिन के परिजनों ने आरोप लगाया कि आरोपी गुड्डू, रामअवतार, आशीष गर्ग तथा तीन चार अन्य लोगों ने लाठी तथा चाकू से विपिन पर दनादन वार कर उसे मौत के घाट उतार दिया। घटना को अंजाम देकर आरोपी भाग खड़े हुए। इधर विपिन की हत्या के बाद गांव वालों का गुस्सा आरोपी के घर पर टूट पड़ा और उन्होंने यहां जमकर तोडफ़ोड़ की तथा आग भी लगा दी। आरोपी के परिजनों ने भाग कर किसी तरह जान बचाई। मौके पर पुलिस अधीक्षक मनोज शर्मा, सीएसपी गीतेश गर्ग, डीएसपी समेत बड़वारा थाना प्रभारी सदलबल मौके पर पहुंच चुके थे। आरोपियों की सरगर्मी से तलाश शुरू की गई है। आरोपियों की सरगर्मी से तलाश-एसपी घटना पर पुलिस अधीक्षक मनोज शर्मा ने बताया कि पिछले कुछ समय से तालाब में मछली पालन को लेकर दो पक्षों में विवाद चल रहा था और इसी की परिणति हत्या की वारदात कारित की गई। आरोपियों की सरगर्मी से तलाश चल रही है। उन्होंने कहा कि इस बात की भी जांच कराई जाएगी कि मृतक अथवा उसके परिजनों ने इससे पहले पुलिस को विवाद के संबंध में कोई शिकायत की थी अथवा नहीं। अगर शिकायत मिलती है तो कार्रवाई यों नहीं हुई इसकी भी जांच की जाएगी उधर गांव के लोगों तथा मृतक के परिजनों ने आरोपियों के घरों में आग लगने को भी एक साजिश बताया। गांव के कुछ लोगों के अनुसार विपिन को मौत के घाट उतारने के बाद आरोपियों ने खुद ही अपने घरों में आग लगा ली । कुछ लोगों ने तो यह भी बताया कि आरोपियों के घरों में सुअर मार बम भी रखे थे जिन्हे घर के अंदर ही आरोपियों ने फोड़ा और दहशत फैलाते यहां से भाग खड़े हुए। बहरहाल आग की इस घटना में आरोपियों समेत कुछ आसपास के मकान भी जल गए । यहां कोई एक दर्जन मकानों में आग लगी थी। बाद में कटनी से पहुंची फायर ब्रिगे्रड ने मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया। सूत्रों के अनुसार यह पूरी घटना मछली पालन के ठेके से जुड़ी थी। यहां जल समिति के सचिव आशीष गर्ग पर भी आरोप लगा है । मृतक के परिजनों के अनुसार सचिव ने पैसा लेकर रामअवतार, गुड्डू वगैरों को तालाब का ठेका दे दिया था। जिसका विपिन ने विरोध किया और यही वजह थी कि आरोपियों ने विपिन को मौत के घाट उतार दिया। सूत्रों के अनुसार मछली पालन के इस आवंटन की शिकायत भी मृतक के द्वारा जिला प्रशासन को की गई थी जिसके बाद ही इन लोगों के बीच रंजिश बढ़ गई थी।