25 February, 2017

वॉटर शैड के कार्यों की दुर्गति क्यों है


वॉटर शैड के कार्यों का जमीनी जायजा लेने पहुंचे कलेक्टर
पथरहटा चैकडैम और चपना में चल रहे तालाब निर्माण कार्य का लिया जायजा
कटनी (25 फरवरी)- वॉटर शैड के कार्यों की इतनी दुर्गति क्यों है, अब मुझे समझ में आ रहा है। जब ना ही मॉनीटरिंग अधिकारी को फील्ड पर उतर कर काम देखने की फुर्सत है ना ही काम करा रही टीम को, तो काम कैसे होगा। यदि यही गत रही, तो आईडब्ल्यूएमपी में काम करने वाले और उसकी मॉनीटरिंग करने वाले टॉप-टू-बॉटम अधिकारियों पर कार्यवाही होगी। साथ ही घटिया निर्माण पर वसूली भी। ये निर्देश कलेक्टर विशेष गढ़पाले ने पथरहटा और चपना पहुंचकर आईडब्ल्यूएमपी के कार्यों को देखने के बाद दिये।
            सख्त लहजे में कलेक्टर ने कहा कि यदि मैं नहीं आउॅंगा, तो काम नहीं चलेगा। परियोजना अधिकारी क्या कर रहे हैं। ठेकेदार सिस्टम चलायेंगे,तो हमारा सिस्टम क्या कर रहा है। सुधार लायें अन्यथा पूरी की पूरी टीम बाहर होगी।
कॉन्क्रीट का मटेरियल कटिंगकर टेस्टिंग के लिये लैब में भेजें
            आईडब्ल्यूएमपी के तहत विकासखण्ड विजयराघवगढ़ में हो रहे जलग्रहण के कार्यों को देखने के लिये कलेक्टर विशेष गढ़पाले सर्वप्रथम पथरहटा पहुंचे। यहां पर उन्होने निर्माणाधीन चैकडैम का निरीक्षण किया। प्रॉपर तराई ना होने पर भी श्री गढ़पाले ने नाराजगी जताई। साथ ही निर्माण के लिये उपयोग में लाई गई सामग्री की जांच कराने के निर्देश दिये। कलेक्टर ने कहा कि कॉन्क्रीट की कटिंग कर एक ब्लॉक निकालें और उसे जांच के लिये लैब में भेजें। लैब की रिपोर्टिंग के बाद अगली कार्यवाही की जायेगी।
चपना पहुंचे, देखी तलाब निर्माण की साईट

            पथरहटा के बाद चपना पहुंचकर एकीकृत जल गृहण मिशन के तहत बनाये जा रहे तालाब की साईट का मुआयना भी कलेक्टर विशेष गढ़पाले ने किया। उन्होने कहा कि एक्चुअल साईट लोकेशन जब तुम्हें पता नहीं है, तो मॉनीटरिंग कैसे करते हो। आप लोगों की पुअर परफॉर्मेंस के कारण इतना बड़ा अभियान सक्सेस नहीं हो पा रहा है। साथ ही कलेक्टर ने कहा कि पथरहटा से लेकर चपना के बीच में मुझे बहुत सी एैसी साईट्स दिखीं हैं, जहां जल ग्रहण का अच्छा कार्य हो सकता है। लेकिन आप लोगों को समझ  में ही नहीं आता। अच्छी साईट का चुनाव करें और वहां जल ग्रहण का कार्य करें।